MP Election:चाचा-भतीजा,जेठ-बहु के बाद अब 2 सगे भाई आमने-सामने,यहां जानिए किस सीट से 2 सगे भाई है चुनाव मैदान में

0
626
नर्मदापुरम (संवाद)। मध्यप्रदेश में चुनावी बिगुल बज चुका है। इसके लिए जहां चुनाव आयोग के द्वारा 17 नवंबर को मतदान की तारीख तय की है वही 21 अक्टूबर से अभ्यर्थियों के द्वारा नामांकन भरा जाना प्रारंभ कर दिया गया हैं। इस बीच जहां प्रदेश की दोनों प्रमुख पार्टियों भाजपा और कांग्रेस के द्वारा अपने अधिकृत उम्मीदवारों की घोषणा की जा चुकी है। इस बीच नर्मदापुरम विधानसभा सीट में भाजपा और कांग्रेस से दो सगे भाइयों को उम्मीदवार बनाए जाने की चर्चा पूरे प्रदेश में है।

MP Election:चाचा-भतीजा,जेठ-बहु के बाद अब 2 सगे भाई आमने-सामने

दरअसल मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव नवंबर 17 नवंबर को मतदान की तारीख तय की गई है और 3 दिसंबर को मतों की गणना की जाएगी। लेकिन इस चुनाव में एक ही घर से दो सगे भाइयों को प्रदेश के दोनों प्रमुख दलों भाजपा और कांग्रेस से उम्मीदवार बनाया गया है। जबकि अभी तक देखा जाता रहा है कि दूर या रिश्ते के जेठ बहु, चाचा भतीजा को उम्मीदवार बनाने अक्सर सुना और देखा जाता रहा है। लेकिन इस बार एक ही घर के दोनों सगे भाइयों के उम्मीदवारी से प्रदेश के दोनों दलों में चर्चा का विषय बना हुआ है।

MP Election:चाचा -भतीजा,जेठ-बहु के बाद अब 2 सगे भाई आमने-सामने

हालांकि कांग्रेस पार्टी के द्वारा तो बीजेपी से पहले ही नर्मदापुरम होशंगाबाद विधानसभा सीट के लिए अपने अधिकृत प्रत्याशी गिरजाशंकर शर्मा के नाम की घोषणा कर दी गई थी। लेकिन बीजेपी को तो इस बात पर ध्यान देना चाहिए, लेकिन उसने भी 21 अक्टूबर को जारी अपनी पांचवी सूची में बीजेपी के कद्दावर नेता और विधानसभा अध्यक्ष सीता शरण शर्मा को ही अपना अधिकृत उम्मीदवार घोषित किया है।

MP Election:चाचा -भतीजा,जेठ-बहु के बाद अब 2 सगे भाई आमने-सामने

बीजेपी के द्वारा कांग्रेस के पहले से घोषित उम्मीदवार गिरजाशंकर शर्मा के सगे भाई सीता शरण शर्मा को 21 अक्टूबर को जारी सूची में उम्मीदवार बनाए जाने के बाद टिकट की अन्य दावेदार के तौर पर रहे नेता और उनके समर्थकों के द्वारा भारी विरोध किया जा रहा है। पूर्व जनपद अध्यक्ष और बीजेपी के गद्दार नेता भगवती चौर ने नाराजगी जाहिर करते हुए निर्दलीय चुनाव लड़ने का फैसला लिया है उनका कहना है कि जब कांग्रेस ने गिरजा शंकर शर्मा को उम्मीदवार बनाया था तब बीजेपी पार्टी को उनके सगे भाई को उम्मीदवार नहीं बनाया जाना चाहिए था जबकि विधानसभा क्षेत्र में कई भाजपा के कई कद्दावर नेता मौजूद है।

MP Election:चाचा -भतीजा,जेठ-बहु के बाद अब 2 सगे भाई आमने-सामने

बीजेपी की कद्दावर नेता भगवती चौरे ने सीता शरण शर्मा को उम्मीदवार बनाए जाने के बाद उनके विरोध में उतर आए हैं। उनका कहना है कि यह बड़ा आश्चर्य जनक है कि प्रदेश की दोनों प्रमुख पार्टियों के उम्मीदवार दो सगे भाई हैं। भगवती चौरे के द्वारा बीजेपी की अधिकृत सूची में सीता शरण शर्मा का नाम आने के बाद वह और उनके समर्थक राम जी बाबा के समाधि स्थल पर एकत्रित हुए और विचार विमर्श कर तय किया गया कि अब वह निर्दलीय के रूप से नर्मदापुरम-होशंगाबाद से चुनाव लड़ने का मन बना लिया है। हालांकि अभी तक उनके द्वारा भाजपा पार्टी से इस्तीफा नहीं दिया गया है।

MP Election:चाचा -भतीजा,जेठ-बहु के बाद अब 2 सगे भाई आमने-सामने

अब जबकि कांग्रेस और भाजपा पार्टी के द्वारा एक ही घर के दोनों सगे भाइयों को उम्मीदवार बना लिया गया है। इसलिए अब देखना बेहद दिलचस्प होगा कि इन दो सगे भाइयों में से विधानसभा चुनाव में सफलता किसे हासिल होती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here