Train Update New यात्रीगण कृपया ध्यान दीजिए: मप्र और छग संपर्क क्रांति के पहियों में लगा ब्रेक,18 दिनों के लिए 36 ट्रेन की गई रद्द,

0
790
Jabalpur (संवाद)। रेलवे विभाग की मनमानी के चलते एक बार फिर यात्रियों को परेशान करने वाली खबर आई है। जिसमें महत्वपूर्ण ट्रेन मध्यप्रदेश संपर्क क्रांति जोकि जबलपुर से कटनी,दमोह, सागर होकर हजरत निजामुद्दीन (दिल्ली) पहुंचती है। इसी के साथ छत्तीसगढ़ संपर्क क्रांति जो छत्तीसगढ़ के दुर्ग से चलकर दमोह सागर होकर हजरत निजामुद्दीन तक चलती है को 18 दिनों के लिए रद्द कर दिया गया है। इस बीच में सफर करने वाले यात्री कृपया सावधान हो जाएं इसके बाद रेलवे विभाग से जुड़ी ट्रेनों के बारे में अपडेट लेकर ही यात्रा करें। रेलवे विभाग के द्वारा एक बार फिर प्रमुख ट्रेनों के परिचालन पर रोक लगाने वाली है जिससे गंतव्य को आने जाने वाले यात्रियों की मुसीबत पर बनाई है इसके पहले भी बिलासपुर से कटनी के बीच हफ्ते भर से प्रमुख ट्रेनों को रद्द कर दिया गया था जिससे यात्रियों को भारी परेशानी हुई थी अब एक बार फिर रेलवे ने रानी लक्ष्मी बाई (पुराना नाम झांसी) रेलवे स्टेशन में निर्माण कार्य को लेकर दिल्ली रूट की कई ट्रेनों को निरस्त किया है।
Train Update: यात्रीगण कृपया ध्यान दीजिए, मप्र और छग संपर्क क्रांति के पहियों में लगा ब्रेक,18 दिनों के लिए 36 ट्रेन की गई रद्द,
आपको बता दें कि रानी लक्ष्मी बाई (झांसी) जंक्शन रेलवे स्टेशन में निर्माण कार्य को लेकर हफ्ते भर से ज्यादा समय के लिए यहां से गुजरने वाली प्रमुख ट्रेनों को निरस्त करने का निर्णय लिया गया है जिसमें मुख्य रूप से जबलपुर से हजरत निजामुद्दीन तक चलने वाली मध्य प्रदेश संपर्क क्रांति, महाकौशल एक्सप्रेस, श्रीधाम एक्सप्रेस और दुर्ग से हजरत निजामुद्दीन तक चलने वाली छत्तीसगढ़ संपर्क क्रांति ट्रेन को रद्द किया गया है।
Train Update: यात्रीगण कृपया ध्यान दीजिए, मप्र और छग संपर्क क्रांति के पहियों में लगा ब्रेक,18 दिनों के लिए 36 ट्रेन की गई रद्द,
रेलवे विभाग से मेरी जानकारी के अनुसार उत्तर मध्य रेलवे वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई झांसी रेलवे स्टेशन में प्लेटफार्म के निर्माण के चलते कल 36 ट्रेनों को रद्द किया गया है। वही दो गाड़ियों का साथ टर्मिनेट किया गया है, इसके अलावा छह अन्य ट्रेनों का रूट डायवर्ट किया गया है। जिसमें जबलपुर से चलने वाली गाड़ी संख्या 12121/12122 जबलपुर से हजरत निजामुद्दीन, और निज़ामुद्दीन से  जबलपुर तक चलने वाली एमपी संपर्क क्रांति एक्सप्रेस को 13 सितंबर से 28 सितंबर तक रद्द किया गया है। 12189/12190 जबलपुर से निजामुद्दीन और निज़ामुद्दीन से जबलपुर तक चलने वाली महाकोशल एक्सप्रेस को 11 सितम्बर से जाने में व वापसी में 12 सितम्बर से 29 सितंबर तक एवं गाड़ी संख्या 12192/12191 जबलपुर-हजरत निजामुद्दीन-जबलपुर व्हाया इटारसी-भोपाल श्रीधाम एक्सप्रेस को जाने में 11 सितंबर व वापसी में 29 सितंबर तक रद्द किया गया है। इसके अलावा गाड़ी संख्या 12823/12824 दुर्ग-निजामुद्दीन-दुर्ग छग संपर्क क्रांति एक्सप्रेस जो व्हाया कटनी मुड़वारा, दमोह, सागर रुट  होकर चलती है, उसे भी 11 सितंबर से 29 सितंबर तक रद्द किया गया है।   वहीं गोंडवाना एक्सप्रेस जो जबलपुर से हजरत निजामुद्दीन तक जाती है उसे यथावत रखा गया है।
Train Update: यात्रीगण कृपया ध्यान दीजिए, मप्र और छग संपर्क क्रांति के पहियों में लगा ब्रेक,18 दिनों के लिए 36 ट्रेन की गई रद्द,
बता दे की इसके पहले रेलवे ने बिलासपुर से कटनी और उससे आगे की ओर जाने वाली ट्रेनों को 1 सितंबर से 9 और 10 सितंबर तक रद्द कर दिया था, जिसमें नर्मदा एक्सप्रेस, भोपाल बिलासपुर पैसेंजर, रीवा बिलासपुर पैसेंजर और चिरमिरी रीवा पैसेंजर सहित अन्य प्रमुख गाड़ियों को सप्ताह भर से ज्यादा के समय के लिए रद्द कर दिया गया था। इस दौरान रक्षाबंधन का पर्व होने के कारण लोगों को अपने गंतव्य में आने-जाने के लिए भारी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा था। अब एक बार फिर यात्रियों को लगा था कि अब ट्रेनों का परिचालन शुरू हो गया है लेकिन उन्हें कहां पता है कि एक बार फिर रेलवे की तानाशाही उनकी परेशानियों को बढ़ाने वाली है।
Train Update: यात्रीगण कृपया ध्यान दीजिए, मप्र और छग संपर्क क्रांति के पहियों में लगा ब्रेक,18 दिनों के लिए 36 ट्रेन की गई रद्द,
गौरतलब है कि जब रेलवे विभाग ने बिलासपुर से कटनी के मध्य ट्रेनों का परिचालन सप्ताह भर से ज्यादा के लिए रद्द कर दिया था उसे दौरान भारत देश का प्रमुख त्यौहार रक्षाबंधन का पर्व चल रहा था रक्षाबंधन में तमाम दूर दराज से भाई-बहन एक दूसरे के पास पहुंचते हैं। इसके लिए कहीं बाहर बैठा भाई पहले से ही ट्रेन में उस दिन के लिए रिजर्वेशन कर चुका था, लेकिन ऐंन वक्त पर उन ट्रेनों को कैंसिल कर दिया गया। जब उन्हें इस बात की जानकारी मिली तब वह किसी कदर बस या अन्य ट्रेनों के माध्यम से अपने घर या बहन के पास पहुंच सके हैं। इस दौरान उन्हें भारी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here