MP: यहां पटवारी को तो वहां उपयंत्री को रिश्वत लेते लोकायुक्त ने किया गिरफ्तार,यहां जानिए कौन किस लिए ले रहा था रिश्वत

0
152
MP (संवाद)। अजब एमपी की गजब कहानी में ज्यादातर सरकारी महकमें के अधिकारी-कर्मचारी प्रदेश को न सिर्फ बदनाम करने में लगे हैं बल्कि दागदार भी कर रहे हैं। लगातार रिश्वतखोर अधिकारी कर्मचारियों को रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़े जाने का सिलसिला जारी है। इसी क्रम में बुधवार को एक सब इंजीनियर 20 हजार की रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ा गया तो वही एक पटवारी ने पावती बनाने के लिए फरियादी से 7 हजार की रिश्वत ली है। इन दोनों को लोकायुक्त की टीम ने रिश्वत लेते रंगे हाथ पड़कर भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत कार्यवाही की है।

MP: यहां पटवारी को तो वहां उपयंत्री को रिश्वत लेते लोकायुक्त ने किया गिरफ्तार,यहां जानिए कौन किस लिए ले रहा था रिश्वत

TOYOTA का मार्केट डाउन कर देंगी Maruti की किलर लुक वाली Maruti Celerio कार, जानिए कीमत और फीचर्स

पहला मामला मध्य प्रदेश के राजगढ़ जिले से सामने आया है जहां जनपद पंचायत सारंगपुर में पदस्थ सब इंजीनियर के द्वारा एक गांव के सरपंच के द्वारा गांव में सीसी रोड का निर्माण कराया था जिसके मूल्यांकन और उसके भुगतान के लिए वह सब इंजीनियर के पास गया लेकिन सब इंजीनियर मूल्यांकन और भुगतान करने से मना कर दिया और कहा कि उसे इस काम में 67000 का कमीशन चाहिए।

MP: यहां पटवारी को तो वहां उपयंत्री को रिश्वत लेते लोकायुक्त ने किया गिरफ्तार,यहां जानिए कौन किस लिए ले रहा था रिश्वत

तब सरपंच के द्वारा रिश्वतखोर सभी इंजीनियर के खिलाफ लोकायुक्त में शिकायत कर दी शिकायत सत्यापन के बाद लोकायुक्त की टीम ने घूसखोर सब इंजीनियर को रंगे हाथ पकड़ने का प्लान बनाया और उनके प्लान के तहत जब सरपंच ने रिश्वत के तौर पर सब इंजीनियर को 20000 रुपए दिए गए उसके बाद लोकायुक्त की टीम ने छापामार कार्यवाही करके घूसखोर सब इंजीनियर को रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया है।

MP: यहां पटवारी को तो वहां उपयंत्री को रिश्वत लेते लोकायुक्त ने किया गिरफ्तार,यहां जानिए कौन किस लिए ले रहा था रिश्वत

मार्केट में गर्दा उड़ाने आया OPPO Reno 11 का 5G स्मार्टफोन जबरदस्त कैमरा क्वालिटी के साथ

दूसरा मामला कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के गढ़ छिंदवाड़ा जिले के परासिया से सामने आया है। जहां एक पटवारी कमल गढ़वाल के द्वारा फरियादी से पावती बनाने के नाम 10000 की रिश्वत मांगी थी। दरअसल फरियादी चिखली गांव निवासी गुलफाम अंसारी के द्वारा अपनी बहन के नाम एक प्लाट खरीदा था। जिसकी वह पटी बनवाना चाह रहा था।

MP: यहां पटवारी को तो वहां उपयंत्री को रिश्वत लेते लोकायुक्त ने किया गिरफ्तार,यहां जानिए कौन किस लिए ले रहा था रिश्वत

लेकिन फरियादी जब पावती बनवाने के लिए पटवारी कमल गढ़वाल के पास पहुंचा तब पटवारी के द्वारा उससे इस काम के बदले ₹10000 की रिश्वत मांगी गई। फरियादी ने इस पूरे मामले की शिकायत लोकायुक्त से कर दी, इसके बाद पूरे प्लानिंग के तहत फरियादी के द्वारा जैसे ही पटवारी को रिश्वत के तौर पर ₹7000 दिए गए उसके तुरंत बाद लोकायुक्त की टीम ने पटवारी कमल गढ़वाल को रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया।

MP: यहां पटवारी को तो वहां उपयंत्री को रिश्वत लेते लोकायुक्त ने किया गिरफ्तार,यहां जानिए कौन किस लिए ले रहा था रिश्वत

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here