MP:फर्जी भर्ती मामले में बड़ा एक्शन: 4 नगरीय निकाय के 249 कर्मियों की सेवा समाप्त, 8 अफसर बर्खास्त,अब तक की सबसे बड़ी कार्यवाही से मचा हड़कंप

0
1394
Bhopal (संवाद)। मध्यप्रदेश की नवगठित 4 नगरीय निकायों के गठन के बाद हुए फर्जी भर्ती मामले में सरकार ने बड़ा एक्शन लिया है। शासन के नगरीय प्रशासन विभाग के द्वारा चार नगरीय निकाय में भर्ती हुए 249 कर्मियों की सेवा समाप्त कर दी है। इसके अलावा फर्जी भर्ती में जिम्मेदार 8 अधिकारी- कर्मचारियों को टर्मिनेट किया गया है। सरकार की इस बड़ी कार्यवाही से प्रदेश से लेकर संबंधित नगरीय निकायों के कर्मचारियों में हड़कंप मच गया है।

MP:फर्जी भर्ती मामले में बड़ा एक्शन: 4 नगरीय निकाय के 249 कर्मियों की सेवा समाप्त, 8 अफसर बर्खास्त,अब तक की सबसे बड़ी कार्यवाही से मचा हड़कंप

दरअसल यह पूरा मामला मध्य प्रदेश के अनूपपुर और शहडोल जिले के अंतर्गत आता है जहां 2020-21 में मध्य प्रदेश शासन के द्वारा अनूपपुर जिले के अंतर्गत तीन नगरीय निकाय का गठन किया गया। जिसमें नगर परिषद डोला, डूमर कछार और बनगवां नगर परिषद शामिल है। इसी तरह शहडोल जिले के अंतर्गत बकहो नगर परिषद का गठन किया गया था। चारों नगरीय निकायों के गठन के बाद ग्राम पंचायत के कर्मचारियों का संविलियन और नई भर्ती किए जाने के दौरान यह बड़ी गड़बड़ी की गई थी।

MP:फर्जी भर्ती मामले में बड़ा एक्शन: 4 नगरीय निकाय के 249 कर्मियों की सेवा समाप्त, 8 अफसर बर्खास्त,अब तक की सबसे बड़ी कार्यवाही से मचा हड़कंप

शासन के द्वारा नगरीय निकायों के गठन के बाद नियुक्त किए गए अधिकारियों के द्वारा फर्जी तरीके से पंचायत कर्मियों का संविलियन और नई भर्ती मामले में जमकर भ्रष्टाचार किया गया। लोगों से पैसे लेकर फर्जी भर्तियां कर ली गई। बाद में शिकवा शिकायत के बाद मामले ने तूल पकड़ लिया। जिला स्तर से लेकर राजधानी भोपाल तक इस फर्जी भर्ती कांड का मुद्दा छाया रहा। कई बार जांच करने और मुद्दा गरमाने के चलते शासन के द्वारा मामले की उच्च स्तरीय जांच के लिए कमेटी का गठन कर दिया गया।

MP:फर्जी भर्ती मामले में बड़ा एक्शन: 4 नगरीय निकाय के 249 कर्मियों की सेवा समाप्त, 8 अफसर बर्खास्त,अब तक की सबसे बड़ी कार्यवाही से मचा हड़कंप

इस फर्जी भर्ती को लेकर तत्कालीन नगरीय प्रशासन मंत्री और मध्य प्रदेश लोकायुक्त में शिकायत के बाद विभाग ने एक उच्च स्तरीय कमेटी बनाकर पूरे घोटाले की जांच कराने का निर्णय लिया। कमेटी के द्वारा सभी बिंदुओं की बारीकी से जांच करने के बाद पूरा फर्जीवाड़ा उजागर हो गया। इसके बाद आयुक्त नगरीय प्रशासन ने मामले में जिम्मेदारों के खिलाफ FIR दर्ज करने के निर्देश दिए। कमेटी की जांच में यह पूरे तरीके से स्पष्ट हो चुका था कि इस फर्जी भर्ती मामले में पूरी तरीके से गड़बड़ी की गई है। इसके अलावा भर्ती हुए कर्मचारियों को भी लगातार वेतन के तौर पर करोड़ों रुपए बांटे जा रहे थे।

MP:फर्जी भर्ती मामले में बड़ा एक्शन: 4 नगरीय निकाय के 249 कर्मियों की सेवा समाप्त, 8 अफसर बर्खास्त,अब तक की सबसे बड़ी कार्यवाही से मचा हड़कंप

आयुक्त नगरीय प्रशासन के द्वारा इस पूरे मामले में बड़ी कार्यवाही करते हुए फर्जी भर्ती में शामिल 249 कर्मियों की सेवा समाप्त कर दी है। वही इस पूरी गड़बड़ी को अंजाम देने वाले 8 जिम्मेदार अधिकारी-कर्मचारी के खिलाफ बर्खास्तगी (टर्मिनेट) की कार्यवाही की गई है। आयुक्त ने अपने आदेश में यह भी उल्लेख किया है कि इस दौरान कर्मियों को दिए गए 3 करोड़ 20 लख रुपए के वेतन की वसूली भी इन्हें जिम्मेदार अफसर और कर्मचारियों से की जाएगी। इसके अलावा आयुक्त नगरीय प्रशासन विभाग के द्वारा एफआईआर दर्ज कराए जाने के  निर्देश दिए गए हैं।

MP:फर्जी भर्ती मामले में बड़ा एक्शन: 4 नगरीय निकाय के 249 कर्मियों की सेवा समाप्त, 8 अफसर बर्खास्त,अब तक की सबसे बड़ी कार्यवाही से मचा हड़कंप

बता दे कि सन 2020-21 के दौरान इन नगरी निकायों में हुए भर्ती घोटाले का मामला उजागर तब हुआ जब स्थानीय स्तर पर इसका विरोध शुरू हुआ शहडोल जिले के एक भाजपा नेता के द्वारा लगातार कई दिनों तक इसको लेकर भूख हड़ताल की गई। तब जाकर यह मामला जिला स्तर से लेकर प्रदेश स्तर राजधानी भोपाल तक पहुंचा था, उनके द्वारा इसकी शिकायत नगरीय प्रशासन मंत्री और मध्य प्रदेश लोकायुक्त से भी की गई थी। इसके बाद इस मामले की छानबीन और गहराई से जांच करने के लिए टीम का गठन किया गया था।

MP:फर्जी भर्ती मामले में बड़ा एक्शन: 4 नगरीय निकाय के 249 कर्मियों की सेवा समाप्त, 8 अफसर बर्खास्त,अब तक की सबसे बड़ी कार्यवाही से मचा हड़कंप

Sidhi News:यहां दिखा तेज रफ्तार का कहर,अनियंत्रित बोलेरो ने राहगीरों को कुचला,तीन की मौके पर मौत,दो अन्य गंभीर रूप से घायल

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here