पालक की इस उन्नत किस्म की खेती किसानो को बना देंगी धनवान, जाने पूरी खबर

0
55
spinach improved variety

पालक की इस उन्नत किस्म की खेती किसानो को बना देंगी धनवान, जाने पूरी खबर. नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका इस नए आर्टिकल में तो आज हम आपको बताने वाले है. पालक की इस उन्नत किस्म के बारे में, जैसा की आपको बात दे किए आजकल किसान भाई पारम्परिक फसलों के साथ साथ अन्य कई तरह की फसलों की और भी काफी जोर दे रहे है. ऐसे ही किसान भाई पालक की खेती की और भी ख़फ़ी ज्यादा ध्यान दे रहे है. तो चलिए जानते है इसके बारे में विस्तार से..

Read Also: 5G मार्केट में अपना जलवा दिखने आ गया Vivo का धांसू कैमरा क्वालिटी वाला 5G स्मार्टफोन, जाने पूरी डिटेल्स

जैसा की आपको बता दे की पालक की यह खास किस्मो की खेती आपको बना सकती है धनवान. आपको बता दे की पालक की फसल मात्र 35 से 40 दिन में फसल तैयार हो जाती है. जैसा की आप सभी तो जानते होंगे की भारत में रबी, खरीफ और जैद तीनों फसलो के साथ साथ पालक की भी खेती की जाती है. तो चलिए जानते है. इसकी उन्नत किस्मो के बारे में विस्तार से खबर के अंत तक बने रहिए.

पालक की इस उन्नत किस्म की खेती किसानो को बना देंगी धनवान, जाने पूरी खबर

जोबनेर ग्रीन पालक किस्म

इनमे सबसे पहले नंबर पर आती है. पालकी की जोबनेर ग्रीन पालक किस्म इसकी पत्तियां समान रूप से हरी, नरम, बड़ी और मोटी रहती हैं। पकने के बाद ये पत्तियां बड़ी ही आसानी से सड़ जाती हैं। इसकी खास बात यह है की इसे क्षारीय मिट्टी में भी उगाया जा सकता है। आपको बता दे की पालक की यह किस्म बुवाई के करीब 40 दिनों में ही तैयार हो जाती है। इस किस्म से प्रति एकड़ करीब 10-12 टन उपज मिलती है।

पूसा ज्योति पालक किस्म

इसमें दूसरे नबर पर आती है पूसा ज्योति पालक किस्म आपको बता दे की पलाक की यह पूसा ज्योति किस्म एक महत्वपूर्ण और सबसे प्रचलित किस्म है। इसकी पत्तियाँ बहुत छोटी और झाड़ीदार होती हैं। यह किस्म को आप जब चाहें जल्दी और देर से भी उगा सकते हैं। यह किस्म बुवाई के मात्र 45 दिनों के बाद फसल तैयार हो जाती है।इस किस्म से प्रति एकड़ करीब 18 से 20 टन उपज मिलती होती है।

Read Also:  KTM छपरी बाइक का मटकना भुला देंगी कंटाप फीचर्स वाली Bajaj Pulsar NS400Z बाइक, जाने कीमत और फीचर्स

ऑल ग्रीन पालक किस्म

अब इसके तीसरे नंबर पर आती है ऑल ग्रीन पालक किस्म, पालक की यह ऑल ग्रीन किस्म एक अधिक उपज देने वाली किस्म है. इसकी खेती ज्यादातर सर्दियों के मौसम में ही की जाती है। इस किस्म के पौधे समान रूप से हरे, आकार में चौड़े और नरम रहते हैं। बुवाई के मात्र 35 से 40 दिनों में ही फसल तैयार हो जाती है।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here