शिकायत का इंतजार किये बगैर स्वयं गांव जाकर सुधारें हैडपम्प, PHE ने तैयार की DPR कार्य प्रगति पर

0
432
उमरिया (संवाद)। जिले में हर घर नल से जल के लक्ष्य को प्राप्त करने हेतु जल जीवन मिशन के माध्यम से कार्य किए जाए। जिले के सभी ग्रामों में नल से जल पहुंचानें का कार्य जल विकास निगम केे माध्यम से सामुदायिक नल जल योजना तथा लोक स्वास्थ्य यांत्रिकीय सिविल एवं मैकेनिकल शाखा के माध्यम से डीपीआर तैयार कर क्रियान्वित किए जा रहे है। 
डीडब्ल्यूएसएम की बैठक की अध्यक्षता करते हुए प्रदेश शासन की जन जातीय कार्य मंत्री सुश्री मीना सिंह ने कहा कि इस पुनीत कार्य में जो भी विभाग या अधिकारी तैनात है पूरी तत्परता एवं निष्ठा के साथ अपने दायित्वों का निर्वहन करें जिससे अपेक्षित परिणाम शीघ्र मिल सके। उन्होंने कहा कि जो भी नल जल योजनाएं या हैण्डपंप किन्हीं कारणों से बंद है उनकों जल्दी से सुधारा जाए । लोक स्वास्थ्य यांत्रिकीय विभाग का अमला शिकायत का इंतजार किए बिना स्वयं ग्रामों तक पहुंचकर हैंडपंपों की मरम्मत सुनिश्चित कराएं। आपनें जल संसाधन विभाग की अधूरी योजनाओं की समीक्षा करते हुए उन्हें शीघ्र पूरा करनें के निर्देश कार्यपालन यंत्री जल संसाधन विभाग को दिए। आपनें कहा कि जो योजनाएं वन विभाग से अनापत्ति के कारण लंबित है वन एवं जल संसाधन विभाग के अधिकारी आपस मे समन्वय कर इस समस्यां का निराकरण करें। 
मंत्री सुश्री मीना सिंह ने मानपुर जनपद पंचायत केे भोलगढ़, झाल, चितरांव, झलवार, मझटोला तथा हरदी ग्रामों में खराब हैण्डपंपों की मरम्मत के निर्देश कार्यपालन यंत्री लोक स्वास्थ्य यांत्रिकीय विभाग को दिए। आपनें कहा कि हैण्डपंपो की मरम्मत शीघ्रता से हो सके इसकेे लिए मरम्मत वाहनों की संख्या बढाई जाए। बैठक मेें कलेक्टर संजीव श्रीवास्तव, वनमण्डलाधिकारी मोहित सूद, सीईओ जिला पंचायत इला तिवारी, कार्यपालन यंत्री लोक स्वास्थ्य यांत्रिकीय आर पी धुर्वे, कार्यपालन यंत्री जल संसाधन व्ही के सिंह सहित जल विकास निगम के अधिकारी उपस्थित रहे। 
कलेक्टर संजीव श्रीवास्तव ने लोक स्वास्थ्य यांत्रिकीय विभाग के मैदानी अमलें को सक्रिय रहकर नल जल योजनाओं तथा हैण्डपंपों की समय सीमा में मरम्मत करनें , जल विकास निगम के अधिकारियों को समय सीमा में सामुदायिक नल जल योजनाओं को पूरा करनें तथा प्रस्तावित संख्या के अनुसार नल कनेक्शन देने के निर्देश दिए। कार्यपालन यंत्री लोक स्वास्थ्य यांत्रिकीय विभाग ने बताया कि जिले के 119 ग्रामो में से 47 ग्रामो के डीपीआर तैयार कर लिए गए है तथा 72 ग्रामों के डीपीआर प्रगतिरत है, इसके अतिरिक्त जल विकास निगम के माध्यम से सामुदायिक नल जल योजना के प्रस्ताव शासन को भेजे गए है। आपने बताया कि जिले में कुल 9 हजार 382 हैण्डपंप है जिनमें से 9 हजार 171 चालू है तथा 211 हैण्डपंप विभिन्न कारणों से बंद है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here