मंत्री मीना सिंह के भ्रष्टाचार से पूरा जिला हुआ था हलाकान, क्षेत्र के विकास के लिए मिली करोड़ो की राशि में भ्रष्टाचार और कमीशनखोरी का लगा था आरोप

0
695
Umaria (संवाद)। मध्यप्रदेश की बीजेपी सरकार में मंत्री रही सुश्री मीना सिंह के द्वारा किए गए करोड़ों रुपए के भ्रष्टाचार किसी से छिपे नहीं है। इतना ही नहीं शासन के द्वारा क्षेत्र के विकास के लिए दी गई करोड़ों रुपए की राशि कमीशन की भेंट चढ़ गया जबकि इस मामले में विरोध करने और मंत्री से जवाब मांगने के लिए गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के द्वारा कई बार प्रदर्शन किया गया था। उनका आरोप था कि मानपुर क्षेत्र के लिए बस्ती विकास योजना के तहत दी गई करोड़ों की राशि में मंत्री मीना सिंह ने जमकर भ्रष्टाचार किया है.?

मंत्री मीना सिंह के भ्रष्टाचार से पूरा जिला हुआ हलाकान,क्षेत्र के विकास के लिए मिली करोड़ो राशि में भ्रष्टाचार और कमीशनबाजी का लगा था आरोप

मामला 6 माह पहले का है जब शासन के द्वारा बस्ती विकास योजना के तहत मानपुर विधानसभा क्षेत्र के लिए विद्युत व्यवस्था या जो भी जरूरतमंद कार्य या तमाम विकास कार्यों के लिए करोड़ों रुपए की राशि दी गई थी, लेकिन इस राशि पर जमकर भ्रष्टाचार हुआ है विकास कार्य के नाम पर महज खाना पूर्ति की गई है और करोड़ों की राशि कमीशन की भेंट चढ़ गई। इसी मुद्दे को लेकर गोंडवाना गणतंत्र पार्टी ने लगातार मंत्री मीना सिंह को घेरने और उनके द्वारा किए गए भ्रष्टाचार की जांच करने के लिए प्रदर्शन किया था।

मंत्री मीना सिंह के भ्रष्टाचार से पूरा जिला हुआ हलाकान,क्षेत्र के विकास के लिए मिली करोड़ो राशि में भ्रष्टाचार और कमीशनबाजी का लगा था आरोप

लेकिन मीना सिंह के द्वारा अपने रसूकह और पद का दुरुपयोग करते हुए मामले को दबाने के प्रयास में रही है इस दौरान जब गोंडवाना गणतंत्र पार्टी की मांग पर जांच नहीं हुई तब वह जिला मुख्यालय के रानी दुर्गावती चौक में हजारों की संख्या में एकत्रित होकर प्रदर्शन किया था। लेकिन यहां पर गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के प्रदर्शन कारियों के द्वारा हिंसा को अपनाया गया जो सरासर गलत था। उनके द्वारा मीना सिंह के द्वारा किए गए भ्रष्टाचार के खिलाफ उग्र प्रदर्शन किया गया, जिसमें कई सुरक्षा में तैनात पुलिस अधिकारी कर्मचारियों को निशाना बनाया गया था।

मंत्री मीना सिंह के भ्रष्टाचार से पूरा जिला हुआ हलाकान,क्षेत्र के विकास के लिए मिली करोड़ो राशि में भ्रष्टाचार और कमीशनबाजी का लगा था आरोप

लेकिन सबसे बड़ा सवाल यह की जब गोंडवाना गणतंत्र पार्टी बीते कई दिनों से इस बाबत मांग कर रहे थे कि मीना सिंह के द्वारा मानपुर क्षेत्र में विकास के नाम पर शासन की करोड़ों रुपए की राशि का बंदर वाट किया गया है जिसकी निष्पक्ष जांच कराई जाए नहीं तो वह उग्र प्रदर्शन करेंगे। तब समय रहते अगर मामले की जांच की जाति और सच्चाई सामने आ जाती तब शायद यह है घटनाक्रम नहीं होता जो जिला मुख्यालय के रानी दुर्गावती चौक पर हुआ था।

मंत्री मीना सिंह के भ्रष्टाचार से पूरा जिला हुआ हलाकान,क्षेत्र के विकास के लिए मिली करोड़ो राशि में भ्रष्टाचार और कमीशनबाजी का लगा था आरोप

जिला मुख्यालय की रानी दुर्गावती चौक में हुई हिंसा और पूरे घटनाक्रम से जहां पूरा जिला हलकान हुआ है, वही पूरे प्रदेशभर में उमरिया जिले की बदनामी हुई है। गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के कुछ नेताओं का कहना है कि उनकी पार्टी सिर्फ मंत्री मीना सिंह के द्वारा बस्ती विकास योजना में किए गए भ्रष्टाचार की जांच करना चाहते थे। वह इसके लिए लगातार ज्ञापन भी दिया और प्रदर्शन भी किया था। लेकिन मंत्री के रसूख और पद के दबाव में प्रशासन उनके खिलाफ कोई भी जांच या कार्यवाही नहीं कर पाया। जिसके कारण गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं को जिला मुख्यालय में प्रदर्शन करना पड़ा।

मंत्री मीना सिंह के भ्रष्टाचार से पूरा जिला हुआ हलाकान,क्षेत्र के विकास के लिए मिली करोड़ो राशि में भ्रष्टाचार और कमीशनबाजी का लगा था आरोप

लेकिन इस मसले पर सबसे बड़ी बात यह है कि गोंडवाना गणतंत्र पार्टी सिर्फ मंत्री मीना सिंह के द्वारा किए गए कथित भ्रष्टाचार की जांच कराने की मांग कर रहे थे, और शायद अगर इस मसले पर जांच की जाती या प्रदेश सरकार की इतनी बड़ी मंत्री जो कहीं ना कहीं अपने को ईमानदार साबित करने में लगी रहती हैं, उनके द्वारा भी एक कदम आगे आकर खुद की जांच करने की बात कह देती तो शायद जो घटनाक्रम जिला मुख्यालय उमरिया के रानी दुर्गावती चौक में हुआ वह नहीं होता.?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here