बांधवगढ़ में अब शिकारियों की खैर नहीं, डॉग”माया” वन्यप्राणियों के शिकारियों को सूंघकर पकड़ने के लिए तैयार

0
611
उमरिया/बांधवगढ़ (संवाद)। बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व में वन्य प्राणियों के शिकारियों को सूंघकर पकड़ने में माहिर डॉग “माया” बिल्कुल तैयार है। बीते दिनों मध्य प्रदेश के शिवपुरी में हुई डॉग प्रशिक्षण के दौरान माया ने प्रदेश में दूसरा स्थान हासिल कर बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व का नाम रोशन किया है।

बांधवगढ़ में अब शिकारी की खैर नहीं, डॉग”माया” वन्यप्राणियों के शिकारियों को सूंघकर पकड़ने के लिए तैयार

बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व में जहां वन प्राणियों के शिकारी की लगातार खबरें आते रहती हैं हालांकि विभाग के द्वारा कई शिकारी पकड़े भी गए हैं लेकिन तब भी शिकारी कहीं ना कहीं अपना जाल फैलाए रहते हैं। विभाग ने इसके लिए डॉग माया को तैयार किया है, जो वन्य प्राणियों के शिकारियों को सूंघकर उन्हें पकड़वाने में पूरी तरीके की मदद करेगी।

बांधवगढ़ में अब शिकारी की खैर नहीं, डॉग”माया” वन्यप्राणियों के शिकारियों को सूंघकर पकड़ने के लिए तैयार

मध्य प्रदेश के शिवपुरी जिले में सात दिवसीय डॉग प्रशिक्षण में प्रदेश भर से 17 डॉग और उनके हैंडलर और सहायक हैंडलर शामिल हुए। प्रशिक्षण में शामिल होने बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व की डॉग माया और उसके हैंडलर राजेश मेहरा और सहायक हैंडलर अशोक प्रधान भी ग्वालियर के प्रशिक्षण में शामिल होकर सा दिवस तक प्रशिक्षण प्राप्त किए हैं।

बांधवगढ़ में अब शिकारी की खैर नहीं, डॉग”माया” वन्यप्राणियों के शिकारियों को सूंघकर पकड़ने के लिए तैयार

प्रशिक्षण उपरांत उनके दक्षता और कार्य को लेकर एक टेस्ट भी लिया गया जिसमें बांधवगढ़ की डॉग माया प्रदेश में दूसरे नंबर का स्थान हासिल किया है। प्रशिक्षण उपरांत डॉग माया और उसके हैंडलर सहायक हैंडलर अब वापस बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व पहुंच चुके हैं जो अब बांधवगढ़ क्षेत्र अंतर्गत होने वाली शिकार की घटनाओं में शिकारी को पकड़वाने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करेगी।

बांधवगढ़ में अब शिकारी की खैर नहीं, डॉग”माया” वन्यप्राणियों के शिकारियों को सूंघकर पकड़ने के लिए तैयार

Chhatarpur: नई नवेली दुल्हन को गिफ्ट में देशी कट्टा देना देवर को पड़ गया महंगा,खानी पड़ी जेल की हवा

*पंचायती संवाद*

शिवपुरी में आयोजित डॉग प्रशिक्षण में बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व से 2 अन्य  मास्टर ट्रेनर के सहायक मास्टर ट्रेनर राजकुमार मिश्रा के द्वारा सभी 17 डाग एवं डाग हेंण्डलर और सहायक हेंण्डलर को किए प्रशिक्षित किया गया है।

बांधवगढ़ में अब शिकारी की खैर नहीं, डॉग”माया” वन्यप्राणियों के शिकारियों को सूंघकर पकड़ने के लिए तैयार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here